Thursday, 10 August 2017

 भविष्य में होगी जहाँ बद्रीविशाल की पूजा : भविष्य बद्री 


भविष्य बद्री मन्दिर 
गढ़वाल हिमालय की गगनचुंबी हिम शृंखलाओं के मध्य अनेक ऐसे तीर्थस्थल विद्यमान हैं जहाँ पहुँच पाने की अभिलाषा मानव मस्तिष्क मे चिरकाल से जन्म लेती आई है। अनादिकाल से आर्य भूमि भारतवर्ष अनेक चमत्कारों एंव अवतारों से अविभूत होती आई है। इस महान भूमि पर अनेकों ऐसे रहस्यमयी तीर्थस्थल हैं जिनकी जानकारी आम मनुष्य के लिए अभी भी विस्मय एंव आश्चर्य का विषय है। जोशीमठ के समीप ऐसा ही एक रहस्यमयी तीर्थ है भविष्यबद्री। कहा जाता है कि जोशीमठ स्थित नृसिंह भगवान मन्दिर में शालीग्राम नृसिंह भगवान्  की एक भुजा दिन प्रतिदिन पतली हो रही है। हमारे आदि देव ग्रंथों के अनुसार जब यह भुजा टूटकर मूर्ति से अलग हो जाएगी उस समय नर-नारायण पर्वतों के आपस मे जुड़ जाने से बद्रीनाथ को जाने वाला मार्ग अगम्य हो जाएगा, तब तपोवन स्थित भविष्य बद्री मे भगवान बद्री नारायण की पूजा की जायेगी। 
तपोवन 
जोशीमठ से 15 किमी. दूर मलेरी जाने वाले मार्ग पर स्थित है तपोवन। धवल ताल से निकली धोली गंगा के तट पर शांतपूर्ण वातावरण मे बसे तपोवन से पवित्र द्रोणागिरी पर्वत के दर्शन तीर्थयात्रियों को प्राप्त होते हैं। 
गर्म जल के स्रोत (तपोवन)
तपोवन मे सड़क मार्ग के किनारे ही गर्म जल के अनेक स्रोत हैं, जिनसे  निकलने वाला गर्म पानी तीर्थयात्रियों एंव सैलानियों के लिए जिज्ञासा का विषय बना हुआ है। तपोवन मे रहने के लिए छोटे-छोटे होटलों के अलावा एक ऋषिकुल आश्रम की व्यवस्था भी है,किन्तु प्रायः भविष्य बद्री की ओर जाने वाले यात्री तपोवन से 4 किमी. दूर सलधार मे बने एक आश्रम मे ही रुकना पसन्द करते हैं।
सलधार गाँव 
सलधार गाँव के बीच स्थित इस छोटे से आश्रम के समीप बिखरे अनुपम सौंदर्य का रसपान केवल भाग्यशाली व्यक्तियों को ही हो पाता है। आश्रम का शान्त एकान्त वातावरण तीर्थयात्रियों को एक अलौकिक एंव आनन्दमयी मानसिक शांति प्रदान करता है। प्राकृतिक हरियाली के बीच आश्रम के सामने अडिग ध्यानावस्थित अवस्था मे स्थित दुग्ध धवल हिम छिन्द्ति पवित्र द्रोणागिरी पर्वत की चोटी तीर्थयात्रियों का मन मोह लेती है।
 द्रोणागिरी पर्वत 
आश्रम के चारों ओर फैली हरियाली एंव प्रकृति की अछूती सुषमा निहारकर तीर्थयात्रियों का चित भाव विभोर हो जाता है। द्रोणागिरी पर्वत के आस पास बसे कई गावों मे हनुमान जी की पूजा नहीं की जाती। इन गावों के निवासियों का मानना है कि श्री राम रावण युद्ध मे लक्ष्मण जी के मूर्छित होने  पर हनुमान जी द्रोणागिरी पर्वत का एक हिस्सा ही ले गए थे। यदि उन्हे संजीवनी बूटी की आवश्यकता थी तो केवल बूटी ही ले जाते। पर्वत का एक हिस्सा ले जाने के कारण यहाँ के निवासी हनुमान जी से रुष्ट हो गए,तभी से यहाँ हनुमान जी की पूजा न करने का विधान है। आज द्रोणागिरी पर्वत का एक हिस्सा अपने स्थान पर नहीं है जोकि इस कथा को सत्य प्रमाणित करता है। सलधार से लगभग 6 किमी. की खड़ी चड़ाई द्वारा भविष्य बद्री पहुँचा जाता है। चलने मे असमर्थ यात्रियो को एक दिन पूर्व ही गाँव मे घोड़ो की व्यवस्था कर लेनी चाहिए। जिससे  अगले दिन यात्रा पर निकलने मे असुविधा ना हो। पैदल जाने वाले तीर्थयात्री लगभग 3 घंटे मे भविष्य बद्री पहुँच जाते हैं। ऊबड़ खाबड़ एंव कटीली घास वाले मार्ग से होते हुए तीर्थयात्री यात्री आगे बढ़ते हैं। यहाँ से सुभई गाँव की दूरी लगभग 4किमी. है किन्तु यहाँ से आगे का सम्पूर्ण मार्ग खड़ी चड़ाई वाला होने के कारण यात्रियो को सावधानीपूर्वक चलना पड़ता है। समुन्द्र तल से लगभग नौ हजार फीट की ऊँचाई पर घने वृक्षों के बीच बद्रीनाथ का छोटा सा मंदिर स्थित है। एक छोटे से चबूतरे पर बना यह मंदिर अपने आप मे रहस्यपूर्ण है। 
शिला पर उभरती विष्णु भगवन की मूर्ति 
मंदिर के भीतर एक शिला पर नरसिंह भगवान की शेर के धड़ वाली आकृति स्वयं ही उभर रही है। जनमान्यता के अनुसार जिस दिन ये मूर्ति सम्पूर्ण हो जाएगी तब बद्रीनाथ जाने वाला मार्ग बंद हो जाएगा जिस कारण भक्तों को बद्री विशाल की पूजा हेतू इस स्थान पर आना होगा।  इसी कारण इस स्थान को भविष्य बद्री के नाम से पुकारा जाता है। यहाँ का शान्त एकान्त जादुई वातावरण तीर्थयात्रियों के लिए किसी औषिधि से कम नहीं।
भविष्य बद्री  समीप फैला प्राकृतिक सौंदर्य 
चित को आकर्षित करती हिमालय की इस घाटी मे ऐसा दिव्य आलौकिक स्थान तीर्थयात्रियों एंव प्रकृति प्रेमियों के मन को असीम शान्ति प्रदान करता है। वेद ग्रन्थों के अनुसार तीर्थयात्रियो को किसी भी तीर्थस्थल पर जाकर एक रात्रि का विश्राम अवश्य करना चाहिए। किन्तु भविष्य बद्री तीर्थ मे रात्रि विश्राम की व्यवस्था न होने के कारण तीर्थयात्रियो को पुनः वापसी सलधार अथवा जोशीमठ आना पड़ता है।  


सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें। 

Monday, 7 August 2017

         होती है जहाँ भगवान शिव के मुख की पूजा : रुद्रनाथ                     

रुद्रनाथ मन्दिर 
सम्पूर्ण देवात्मा हिमालय देवाधिदेव महादेव का निवास स्थान माना गया है। यहाँ पग-पग पर ऐसे कई चमत्कारी तीर्थ स्थल विद्यमान हैं जहाँ दर्शनों का पुण्यलाभ प्रत्येक मनुष्य को मानसिक शान्ति प्रदान करता है। ऐसा ही एक अलौकिक एंव दिव्य स्थल है - रुद्रनाथ। जनमान्यता के अनुसार पांडवों को इसी पवित्र स्थान पर भगवान् शिव की मुखाकृति के दर्शन प्राप्त हुए थे। कहा जाता है कि रुद्रनाथ में भगवान् शिव के मुख एंव नेपाल के पशुपति नाथ में धड़ के दर्शन करने से मनुष्य के जन्म-जन्मान्तर के पाप धुल जाते हैं। देवात्मा हिमालय की विशाल शृंखलाओं के मध्य पंच केदार मे चतुर्थ केदार श्री रुद्रनाथ जी की यात्रा सर्वाधिक कठिन हैं। किन्तु मार्ग मे पड़ने वाले प्राकृतिक छटा से परिपूर्ण अलौकिक दृश्य इस महायात्रा को रमणीय बना देते हैं। निर्जन एंव लंबा मार्ग होने के कारण कम से कम दो-तीन यात्रियो के समूह मे यात्रा करना ही हितकारी होता है। ग्रीष्मकालीन पूजार्चना हेतू भगवान रुद्रनाथ को डोली मे सुसज्जित कर गोपेश्वर से रुद्रनाथ मंदिर ले जाया जाता है। डोली यात्रा के साथ जाने मे आनन्द कई गुना बढ़ जाता है। साथ ही मार्ग मे कुछ सुविधाएँ मिलने के कारण तीर्थयात्रा की कठिनाई कुछ कम हो जाती है। रुद्रनाथ जाने वाले तीर्थयात्री गोपेश्वर स्थित गोपीनाथ मंदिर से यात्रा की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं
गोपीनाथ मन्दिर (गोपेश्वर)
तीर्थयात्री गोपेश्वर से लगभग 4 किमी. दूर मोटर मार्ग द्वारा सगर तथा यहीं से 18 किमी. की कठिन पैदल यात्रा द्वारा रुद्रनाथ पहुँचते हैं। पिछले कई वर्षों से रुदरेश्वर भगवान की डोली यात्रा इसी मार्ग से आगे बढ़ती है। 40-50 घरों वाला यह गाँव इस यात्रा मार्ग का अंतिम गाँव है। सगर से 6-7 किमी. की अत्यंत कठिन चड़ाई के उपरांत यात्री चक्रगोंडा नामक स्थान पर पहुँचते हैं। प्रकृति के अद्भुत नज़ारों से परिपूर्ण इस स्वर्गमयी यात्रा मे पग-पग पर फैली अलौकिक एंव मंत्रमुग्ध कर देने वाली दृश्यावली यात्रियो को हर्षित करती है। सम्पूर्ण यात्रा मार्ग आनन्द एंव हरियाली से सराबोर है। तीर्थयात्री हल्की फुल्की चड़ाई वाले मार्ग से मोलीखर्क होते हुए ल्वीटी बुग्याल पहुँचते हैं। ल्वीटी बुग्याल मे पास ही के एक गाँववासी ने छोटी सी अस्थाई झोपड़ी मे यात्रियो के लिए जलपान की व्यवस्था की हुई है। तीर्थयात्री एंव पर्यटक इतनी कठिन चड़ाई के उपरांत कुछ देर यहाँ विश्राम करते हुए प्रकृति के अद्भुत नज़ारों का दृश्यावलोकन करते हैं। यहाँ से थोड़ा आगे बढ़ने पर कौआठानी नामक स्थान आता है। एक बड़ी सी चट्टान पर कौए की आकृति यात्रियो को सुस्पष्ट दृष्टिगोचर होती है। ऐसी मान्यता है कि यही स्थान काक भुशण्डी ऋषि की तपोस्थली रही है। यहाँ से लगभग 2 किमी. आगे बढ़ने  पर पनार बुग्याल नामक स्थान आता है।
पनार बुग्याल 
चारों ओर फैली मखमली घास के हरे भरे मैदान की सुंदरता को शब्दों मे बांध पाना असंभव है। हिमालय की ऐसी अद्भुत सौंदर्यपूर्ण घाटी मे यात्री अपनी सारी थकान भूलकर इन घाटियों के मनोरम दृश्यों मे खो जाते हैं। हरियाली के इस कालीन पर बैठकर सामने हिमछंदित पर्वत शृंखलाओं का दृश्यावलोकन नयनों को शीतलता प्रदान करता है। प्रत्येक तीर्थयात्री हिमालय की मंत्र मुग्ध कर देने वाली इस अपूर्व शोभा को प्रणाम करते हैं।समुन्द्र तल से लगभग 11000 फुट की ऊँचाई पर स्थित इस पनार बुग्याल मे यात्रियो एंव सैलानियों के विश्राम हेतू एक स्थायी टिन शैड की व्यवस्था है। रात्री विश्राम के इच्छुक यात्रियो को एक स्थानीय दुकानदार द्वारा रज़ाई एंव गददों की सशुल्क व्यवस्था करवा दी जाती है। इस टिन शैड मे आराम से 30-40 यात्रियो के रुकने की व्यवस्था है। यात्रियो के ऑर्डर देने पर चाय नाश्ता एंव भोजन उबलब्ध हो जाता है। अधिकतर विभिन्न प्रदेशों से आये तीर्थयात्री एंव सैलानी यात्री विश्राम के लिए यहीं रुकते हैं जबकि स्थानीय निवासी एक ही दिन मे रुद्रनाथ गुफ़ा तक पहुँच जाते हैं। यहाँ से 3 किमी. आगे की ओर पित्रधार नामक स्थान पर तीर्थयात्रियो को पित्रों की पूजा करने के उपरांत ही आगे बढ़ना चाहिए। 
पितृ धार 
चारों ओर प्रकृति के अद्भुत नज़ारों के बीच पूजार्चना करते हुए तीर्थयात्रियों को जो आत्मिक आनन्द प्राप्त होता है वह अवर्णनीय है। यहाँ से आगे पंचगंगा का ढलावना मैदान आरम्भ होता है। पंचगंगा से एक-डेढ़ किमी. आगे देवदर्शनी नामक स्थान है। यहीं से रुद्रनाथ भगवान के सर्वप्रथम दर्शन यात्रियो को प्राप्त होते हैं। अत्यन्त कठिन मार्ग से होते हुए तीर्थयात्री देवदर्शनी पहुँचकर रुद्रनाथ भगवान को  साष्टांग प्रणाम करके गुफ़ा की ओर बढ़ते हैं। मंदिर से कुछ पहले नारद कुंड मे मुँह हाथ धोकर तीर्थयात्री रुद्रनाथ मंदिर मे दर्शनों के लिए जाते हैं। समुन्द्र तल से लगभग 2300 मीटर की ऊँचाई पर स्थित गुफ़ानुमा स्थान को रुद्रनाथ मंदिर मे परिवर्तित किया गया है। रुद्रनाथ का यह मंदिर पांडवों द्वारा प्रतिष्ठित है। जनमान्यता के अनुसार इसी स्थान पर पांडवों को भगवान शिवजी के रोद्र रूप मे दर्शन प्राप्त हुए थे जिससे इस स्थान का नाम रुद्रनाथ पड़ गया। एक बड़े से चबूतरे पर बना यह गुफ़ानुमा मंदिर कल्पेश्वर की भाँति ही प्राकृतिक गुफ़ा मे स्थित है। मुख्य मंदिर के साथ ही दायीं ओर वनदेवता का एक छोटा सा एक मंदिर है जिसे स्थानीय लोग वणदौ के नाम से पुकारते हैं। जनमान्यता है कि इस पावन पवित्र क्षेत्र की रक्षा वन देवी-देवताओं द्वारा की जाती है और यदि वे रुष्ट हो जायें तो नाना प्रकार के अनिष्ट होने का भय सदा बना रहता है। इसीलिए सर्वप्रथम वन देवताओं की पूजार्चना करने के उपरांत ही रूद्रेश्वर भगवान की गुफ़ा मे प्रवेश किया जाता है। तीर्थयात्री धूप,दीप,नैवेद्य,फल-फूल एंव पंचामृत इत्यादि के साथ महादेव की मुखाकृति की विधिवत पूजार्चना कर भगवान रुद्रनाथ से सुख शांति का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। मुख्य पुजारी द्वारा किए गए शृंगार से सुसज्जित मूर्ति ऐसी प्रतीत होती है मानो साक्षात महादेव विराजित होकर भक्तों को दर्शन दे रहे हैं। तीर्थयात्रियों को मंदिर के भीतर उमा-महेश,गणेश जी,कार्तिकेय जी,माँ दुर्गा इत्यादि कई देवी-देवताओं के एक साथ दर्शनों का पुण्यलाभ प्राप्त होता है। रुद्रनाथ देवालय के सामने दायीं ओर स्वच्छ जल की एक निर्मल धारा निरन्तर प्रवाहित रहती है,जिसे स्वर्गद्वारी कहते हैं। मंदिर मे पूजार्चना एंव भोग इत्यादि के लिए इसी जल का उपयोग किया जाता है। रुद्रनाथ से लगभग 3-4 किमी. ऊपर की ओर जाने पर लाल माटी नामक स्थान पड़ता है। किन्तु मार्ग कठिन होने के कारण अधिकतर तीर्थयात्री वहाँ नहीं जा पाते। यहीं पास के क्षेत्र मे ब्रह्म कमल भी उगते हैं। जिन्हे मंदिर मे भगवान शिव की पूजार्चना के लिए प्रयोग मे लाया जाता है। रुद्रनाथ मंदिर के आस पास सूर्य कुंड,चंद्र कुंड,तारा कुंड एंव मानस कुंड स्थित है।
सरस्वती कुंड 

रुद्रनाथ मंदिर के पीछे 20-25 कदम की दूरी पर सरस्वती कुंड है। यह गोलाकार एंव लगभग 30 मीटर लंबा तथा 15 मीटर चौड़ा है। खिली हुई धूप मे कुंड के शान्त,स्वच्छ एंव निर्मल जल मे प्रकृति का नज़ारा देखने योग्य होता है। कुंड मे हिमालय की बर्फीली चौटियों का प्रतिबिंब अत्यन्त चिताकर्षक लगता हैं। मंदिर से 11 किमी. नीचे की ओर वैतरणी कुंड है। प्राचीन मान्यता के अनुसार मरणोपरांत जीवात्मायें वैतरणी नदी को पार कर दूसरे जीवन मे प्रवेश करती हैं। प्राचीन काल मे तीर्थयात्री अपने पूर्वजों की आत्मा की शान्ति के लिए क्रियाकर्म,तर्पण,पिंडदान इत्यादि यहीं किया करते थे। किन्तु अब अधिकतर यात्री मंदिर के समीप ही स्थित नारद कुंड मे ही यह कार्य सम्पन्न करते हैं। रुद्रनाथ मंदिर के पृष्ठभाग मे नंदादेवी,त्रिशूल तथा नंदा घुंटी की दुग्धधवल बर्फीली चोटियों के भी दर्शन पाकर तीर्थयात्री एंव सैलानी अपनी यात्रा को और भी यादगार बनाते हैं। सम्पूर्ण दृश्यावली अत्यन्त हृदयाकर्षक है। हिमछिंदित चोटियाँ ऐसी प्रतीत होती हैं मानो बर्फ की सफ़ेद चादर से लिपटी स्वर्ग की कोई अनमोल अप्सरा हो। मई जून से नवम्बर तक भट्ट एंव तिवारी परिवार के पुजारियों द्वारा प्रतिवर्ष बारी बारी से रुद्रनाथ भगवान की पूजार्चना सम्पन्न की जाती है। शीतकाल मे जब कई फुट्ट बर्फ जम जाने से यह मार्ग अगम्य हो जाता है तब भगवान रुद्रनाथ जी की पूजार्चना गोपेश्वर स्थित गोपीनाथ मंदिर मे की जाती है।

डोली में विराजित भगवान रुद्रनाथ 
जिस प्रकार ग्रीष्मकाल के आरम्भ होने पर रुदरेश्वर भगवान को डोली मे सुसज्जित कर रुद्रनाथ ले जाया जाता है उसी प्रकार शीतकाल आरम्भ होते ही उन्हे पुनः वापसी शीतकालीन पूजार्चना के लिए गोपीनाथ मंदिर मे लाया जाता है। यात्रियो को विशेष सुझाव है कि वे अपनी यात्रा डोली के साथ सम्पन्न करें। डोली यात्रा के साथ जाने से तीर्थयात्रियो को मार्ग मे सुविधाओं के साथ साथ कई गुणा अधिक आनंद भी प्राप्त होता है।         
रुद्रनाथ देवालय पहुँचने के लिए तीर्थयात्रियों को सर्वप्रथम हरिद्वार पहुँचना पड़ता है। यहाँ से पहाड़ी सर्पीले सड़क मार्ग द्वारा चमोली जिले के मुख्यालय गोपेश्वर पहुँचकर आगे की यात्रा सगर होते हुए सम्पन्न की जाती है।  

सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें। 

         

Sunday, 16 July 2017

शनि कृपा से आज भी नहीं लगते दरवाज़ों पर ताले : शनि शिंगणापुर 

शनि शिंगणापुर 
भगवान सूर्य के अतिबलशाली पुत्र शनिदेव मृत्युलोक के ऐसे स्वामी हैं जो मनुष्यों को उनके अच्छे बुरे कर्मों के आधार पर न्याय देते हैं। वैसे तो कर्मों के  न्यायधीश शनिदेव सम्पूर्ण भारत में कई जगह विराजमान हैं। किन्तु मथुरा के निकट कोकिला वन एंव महाराष्ट्रा के अहमदनगर के निकट स्थित शिंगणापुर भारत ही नही अपितु विश्व में शनिधाम के नाम से विख्यात हैं। एक दन्त कथा के अनुसार सालों पहले इस गाँव में भयंकर बाढ़ आयी, जिसमें काफी जान माल का नुक्सान होने लगा। बाढ़ के साथ ही एक दिव्य शिला बहती हुई  गाँव में आ गयी। अगले दिन एक आदमी को यह शिला पेड़ के ऊपर अटकी दिखी। उसने जब उत्सुकतावश इसे पेड़ से नीचे उतारकर तोड़ने की कोशिश की तो उसमे से रक्त बहने लगा। रक्त निकलता देख वह आदमी घबराकर गाँव की ओर दौड़ा और जाकर  जब उसने आपबीती सुनाई तो उसकी बात सुनने वाले सभी लोग उसके साथ उसी स्थान पर गए और शिला को  देखकर आश्चर्य में   पड़ गए।  कुछ भी समझ न आने के कारण ये सोचकर वापिस आ गए कि कल आकर निर्णय लेंगे कि क्या करना चाहिए। रात को शनिदेव ने उस आदमी को स्वप्न में दर्शन देकर कहा कि वह शिला मेरा ही स्वरुप है। उस शिला को गाँव में स्थापित कर पूजार्चना करने से गाँववासी सदैव आपदा से मुक्त रहेंगे।  अगली सुबह उस व्यक्ति ने अपना स्वप्न गाँव वालों को सुनाया। सभी की रज़ामंदी से उस दिव्य शिला को गाँव में स्थापित करने  निर्णय लिया गया।  किन्तु कई लोगों की कोशिश के बावजूद  शिला टस से मस न हुई।  गाँव वाले अगले दिन कुछ उपाय सोच का दोबारा आने का निश्चय कर वापिस लोट आये।  रात में उसी व्यक्ति को फिर से दर्शन देकर शनि देव ने कहा कि यदि कोई मामा भांजा कोशिश करें तो शिला को गाँव तक लाया जा सकता है। अगली प्रातः उसके स्वप्न अनुसार रिश्ते में सगे मामा भांजे से उस शिला को गाँव तक लाया गया और बड़े से मैदान के बीचो बीच ऐसे स्थान पर स्थापित कर दिया गया जहाँ सूर्य की सीधी किरणे पड़ती रहें।  आज भी इस पवित्र शिला रुपी शनिदेव की मूर्ति के ऊपर कोई छत या गुंबद  नही है।  इतने सालों धूप, गर्मी, सर्दी, बारिश झेलने के बावजूद शिला ज्यों की त्यों विराजमान है।  
शनि प्रतिमा 
काले रंग की यह दिव्य प्रतिमा ५ फुट ९ इंच लंबी और १ फुट ६ इंच चौड़ी है। मुख्य गेट से अंदर आते ही बायीं ओर थोड़ा आगे चलकर संगमरमर के चबूतरे पर सूर्यपुत्र शनिदेव शिला रुपी विग्रह में भक्तों को दर्शन देते हैं।चबूतरे के चारों तरफ स्टील की ग्रिल लगा रखी है जिससे मूर्ति को स्पर्श न किया जा सके। शनिदेव को सरसों का तेल अति प्रिय है।  इसलिए ग्रिल के समीप ही एक टैंक बनाया गया है। सभी भक्तजन अपने साथ लाए हुए तेल को इस टैंक के ऊपर लगी जाली में डाल देते हैं।  विधुत मोटर के द्वारा पाइपलाइन से होते हुए निरन्तर इस तेल से शनिदेव का अभिषेक होता रहता है। शनिदेव की मूर्ति के ठीक सामने ४-५ सीढ़ियाँ चढ़कर एक प्लेटफॉर्म है जहाँ भक्तजन बैठकर पूजार्चना करवा सकते है।



यह गाँव एक और विशेषता के कारण देश-विदेश में प्रसिद्ध है। आपको जान कर हैरानी तथा देखकर निःसंदेह अचम्भा होगा कि यहाँ घरों,होटलों, दुकानों और तो और बैंक तथा डाकघरों में भी ताले नहीं लगाए जाते। यहाँ चोरी का डर किसी को  भी छूने नहीं पाता। कहा जाता है कि यदि बाहर से कोई चोर यहाँ आकर चोरी कर भी ले तो वह गाँव से बाहर नहीं जा पाता तथा इसी गाँव में भटकता रह जाता है।  कई चोरो ने  इस सत्य को स्वीकार भी किया कि चोरी  के उपरांत वह इस गाँव से बाहर जाने का रास्ता ही नहीं खोज पाये।
शनि शिंगणापुर देव स्थान अहमदनगर से लगभग 35 किमी., औरंगाबाद से 84 किमी. और शिरडी से 60 किमी. की दूरी पर स्थित है।          

सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें। 

Tuesday, 25 April 2017

जहाँ कार्तिकेय जी ने दान मे दे डाली अपनी हड्डियाँ :                     कार्तिकेय स्वामी मन्दिर



कार्तिकेय स्वामी मंदिर 

भारत ही नहीं अपितु सम्पूर्ण विश्व मे देवात्मा हिमालय का अपना अलग ही स्थान है। हिमालय शृंखला मे लगभग जितने भी सुन्दर स्थान हैं वहाँ आपको देव स्थल अवश्य मिल जायेंगे। हिमालय की इन विराट शृंखलाओं के मध्य मात-पित्र भक्ति को समर्पित एक अत्यन्त अलौकिक तीर्थ स्थल है - कार्तिकेय स्वामी मन्दिर। रुद्रप्रयाग-पखोरी सड़क मार्ग पर एक छोटा सा गाँव है - कनकचौरी। रुदप्रयाग से यहाँ की दूरी लगभग 40 किमी. है।



रुद्रप्रयाग-पखोरी सड़क मार्ग 

हिमालय की गोद मे बसे इस सुंदर गाँव से कार्तिकेय स्वामी मन्दिर पहुँचने के लिए यात्रियो को लगभग 3-4 किमी. का पैदल मार्ग तय करना होता है। घने जंगलों से घिरा ये सम्पूर्ण मार्ग हल्की चढ़ाई वाला है। यहाँ जंगली जानवरों का भय सदैव बना रहता है जिस कारण तीर्थयात्रियों एंव सैलानियों को भय एंव रोमांच का एक साथ अनुभव होता है। मन्दिर से कुछ पहले मुख्य पुजारी जी का निवास स्थान है जहाँ 2-3 कमरे यात्रियो के ठहरने के लिए बनाये गए हैं किन्तु अधिक व्यवस्था न होने के कारण लगभग सभी यात्री दर्शनोपरांत वापिस कनकचौरी आ जाते हैं। मन्दिर तक पहुँचने के लिए लगभग 30-40   सीढ़ियाँ है। इन सीढ़ियो के एक ओर गहरी खाई होने के कारण यात्रियो को सावधानीपूर्वक सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं। मन्दिर प्रांगण मे पहुँचने पर नज़ारा देखते 40 ही कुछ सेकंड के लिए दिल-दिमाग स्थिर हो जाता है। यह स्थान समुन्द्र तल से लगभग 3048 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।  



मंदिर प्रांगण मे भक्तजन 

पुराणों मे वर्णित कथा के अनुसार एक बार भगवान शिव ने अपने पुत्रों (भगवान गणेश एंव भगवान कार्तिकेय) से कहा कि जो भी सबसे पहले सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का चक्कर लगाकर वापिस मेरे पास आएगा वह ही मेरा प्रिय पुत्र होगा। कार्तिकेय जी सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का चक्कर लगा आए, किन्तु गणेश जी ने माता-पिता को ही अपना ब्रह्माण्ड मानते हुए उनका चक्कर लगा लिया। ब्रह्माण्ड का चक्कर लगाकर वापसी आने पर जब कार्तिकेय जी को सच्चाई का पता चला तो क्रोधवश उन्होने अपनी हड्डियाँ भगवान शिव तथा माँस माता पार्वती को समर्पित कर दिया। भगवान कार्तिकेय जी की हड्डियाँ आज भी इस मन्दिर मे रखी हुई हैं, जिनकी पूजा करने भक्त यहाँ आते हैं। मन्नत पूरी होने पर भक्तों द्वारा बाँधी गई घंटियाँ उनकी श्रद्धा एंव आस्था को दर्शाती हैं। साफ मौसम मे चारों ओर दृष्टि डालने पर बर्फ से आछन्दित चौखम्बा, बंदर पूँछ, द्रोणागिरी, नन्दा घूंटी, केदार डोम, मेरु-सुमेरु आदि चोटियाँ दृष्टिगोचर होती हैं। इतनी ऊँचाई से जिस ओर दृष्टि डालो हरियाली ही हरियाली मन को मंत्रमुग्ध कर देती है। 

हरियाली से सराबोर प्रकृति 

हरियाली से सराबोर इन जंगलों को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि अभी तक यहाँ प्रकृति से कोई छेड़-छाड़ नहीं की गयी है। शांति से परिपूर्ण इस वातावरण मे आकर कोई भी व्यक्ति अपने मन को एकाग्रचित कर सकता है। प्रकृति से साक्षात्कार कराता यह वातावरण तीर्थयात्रियों एंव सैलानियों को बार बार यहाँ आने के लिए प्रेरित करता है।  

मंदिर से दृष्टिगोचर सुन्दर घाटियाँ 

सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें। 

Saturday, 4 March 2017

जहाँ रात मे निकलती है माँ की डोली - 

                       हरियाली देवी 

सिद्धपीठ हरियाली देवी मंदिर 
इसमे कोई शक नही कि भारत की आत्मा तीर्थों मे वास करती है। नास्तिक से नास्तिक व्यक्ति भी इन तीर्थस्थलों पर पहुँचकर यहाँ के आध्यात्मिक वातावरण से वशीभूत होकर थोड़ी बहुत पूजार्चना एंव कर्मकांड कर ही लेता है। जाने अनजाने इन पवित्र स्थलों मे की गयी थोड़ी सी भी पूजार्चना जन्म जन्मांतर  के पापों को नष्ट करने मे सक्षम है। देवात्मा हिमालय का हरेक कण स्वयं मे आलौकिक है। यहाँ की हरियाली का तो कहना ही क्या। इसी हरियाली से सराबोर दिव्य सिद्ध पीठ है - हरियाली देवी। इस पवित्र स्थान पर पहुँचने के लिए यात्रियो को राष्ट्रीय राजमार्ग 58 पर रुद्रप्रयाग गोचर के बीच स्थित नगरासू गाँव पहुँचना होता है। यहाँ से नवनिर्मित सड़क द्वारा लगभग 25 किमी. की दूरी पर है जसोली गाँव, जहाँ पर स्थित है माँ हरियाली देवी का सुप्रसिद्ध मंदिर। 
नवनिर्मित नगरासू-जसोली सड़क मार्ग 

इस स्थान पर माँ को बालासुन्दरी के रूप मे पूजा जाता है। माँ हरियाली देवी मंदिर मे मुख्य तीन प्रतिमाएँ स्थापित हैं - माँ हरियाली देवी,क्षेत्रपाल एंव हित्त देवी। मंदिर परिसर मे ही अन्य कई देवी-देवताओं की मूर्तियाँ भी शोभायमान हैं। पुजारी जी भक्तों द्वारा लायी गयी पूजन सामग्री बड़े ही श्रद्धाभाव के साथ माँ को समर्पित करते हैं। दीपावली से एक दिन पूर्व इस मंदिर परिसर से एक अलौकिक देवी यात्रा की शुरुआत होती है। यहाँ से 8 किमी. की दूरी पर स्थित है हरियाली कांठा। समुन्द्र तल से लगभग दस हज़ार फीट की ऊँचाई पर स्थित यह स्थान घने जंगलों से घिरा है।

हरियाली कांठा क्षेत्र की हरियाली 

लोगों का विश्वास है कि हरियाली कांठा माँ हरियाली देवी का मायका तथा जसोली गाँव माँ का ससुराल है। इसी लिए माँ की चल मूर्ति को एक दिन के लिए ससुराल से मायके ले जाने की परम्परा है। दीपावली से एक दिन पूर्व विशेष पूजार्चना के पश्चात माँ हरियाली देवी की चल मूर्ति को गर्भ ग्रह से निकालकर बड़ी ही सुन्दर डोली मे सजाया जाता है। रात्रि के समय माँ की डोली यात्रा आरंभ होती है जिसमे हजारों की संख्या मे देवीभक्त शामिल होते हैं। इस यात्रा मे महिलायें सम्मिलित नहीं होती। 8 किमी. पैदल खड़ी चड़ाई के पश्चात भोर की किरणों के साथ जब माँ की डोली हरियाली कांठा पहुँचती है तो वहाँ का नज़ारा देखने योग्य होता है। जनमान्यता के अनुसार जब कंस द्वारा देवकी की सातवीं संतान महामाया को धरती पर पटका गया, तब महामाया का शरीर अलग-अलग भागों मे खंडित हो गया तथा उनका हाथ इस पवित्र हरियाली कांठा मे गिरा,तभी से यह स्थान सिद्धपीठ कहलाया। श्रद्धालु भक्त हरियाली कांठा मे माँ की पूजार्चना के बाद ही दीपावली का पर्व मनाते हैं। मार्ग कठिन होने के कारण भक्तजन सम्पूर्ण वर्ष जसोली गाँव मे स्थित मंदिर मे ही माँ हरियाली देवी की पूजार्चना करते हैं।

हरियाली से भरपूर जसोली गाँव 

जसोली एक छोटा सा गाँव है, जिस कारण यहाँ ठहरने के लिए किसी भी होटल अथवा लॉज की व्यवस्था नहीं है। गढ़वाल मण्डल विकास निगम का एक टूरिस्ट रेस्ट हाउस है जो प्रायः बन्द रहता है। मंदिर परिसर मे ही एक छोटी सी धर्मशाला मे कुछेक कमरे यात्रियो के ठहरने के लिए बने हुए हैं।

 
जसोली गाँव के समीप  प्रकृतिक झरना  

मेरा परम सौभाग्य रहा कि जब हम इस सिद्ध पीठ की यात्रा के लिए गये तो यहाँ के मुख्य पुजारी श्री सचिदानन्द चमोली जी ने स्वयं मुझे परिवार सहित अपने घर पर ही रुकने का आमंत्रण दिया। पहले तो हमे कुछ संकोच हुआ किन्तु गाँव के महोल मे रहने का इतना स्वर्णिम अवसर खोना एक महामूर्खता होती। एक रात विश्राम मे ही सचिदानन्द जी द्वारा किए गये अतिथि सत्कार के आगे हम  नतमस्तक हो गये। जय माँ हरियाली देवी।  

मंदिर मे पुजारी जी के साथ लेखक 



सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें। 

Thursday, 23 February 2017

जहाँ तीन युगों से प्रज्ज्वलित है शिव-पार्वती विवाह अग्नि : त्रियुगीनारायण 

मुख्य मंदिर 

नागाधिराज हिमालय की परम पावन शृंखलाओं मे अनेकों ऐसे महातीर्थ हैं जिनकी अपनी विशिष्ट पहचान है। शिव एंव शक्ति की इस पावन भूमि मे तीन युगों से आस्था एंव परम विश्वास का केंद्र त्रियुगीनारायण ऐसा ही एक परम कल्याणकारी तीर्थस्थल  है। रुद्रप्रयाग से केदारनाथ जाने वाले मार्ग पर सोनप्रयाग से बाई ओर लगभग 13 किमी. की दूरी पर घने वृक्षों वाले मोटर मार्ग द्वारा त्रियुगीनारायण पहुँचा जाता है।

सोन गंगा 

यही वो पावन पवित्र स्थान है जहाँ राजा हिमाचल ने अपनी प्रिय पुत्री पार्वती का कन्यादान कर, त्रिलोकस्वामी भगवान शिव के साथ पाणिग्रहण (विवाह) करवाया था। इसी स्थान पर भगवान नारायण तथा ब्रह्मा जी ने विवाह के साक्षी होकर भगवान शिव पार्वती के हवन कुंड के समक्ष फेरे करवाये थे ।

पवित्र हवन कुंड 

केदारखंड मे ये ही वह रमणीय प्राचीन स्थान है जहाँ राजा हिमाचल के आदेशानुसार इंद्रदादि देवताओं ने उग्र तप द्वारा भगवान विष्णु हरी की प्रसन्नता हेतु लोककल्याण यज्ञ किया था। इसी पवित्र स्थान पर चतुर्भुज नारायण भगवान माँ लक्ष्मी एंव वाम भाग मे माँ सरस्वती सहित सुशोभित हैं। माँ पार्वती द्वारा पूछे जाने पर कि हे त्रिलोक के स्वामी महादेव इस उत्तम केदारखंड मे ऐसा कौन सा पुण्य स्थान है जहाँ पर मनुष्य एक बार मे अपने समस्त पापों को त्याग सकता है। तब महादेव बोले अब मै उस क्षेत्र का वर्णन करता हूँ जोकि हरी नारायण का क्षेत्र है तथा जहाँ जाने से मनुष्य स्वयं हरी के समान हो जाता है। हे गौरा ! सोनप्रयाग से पीछे त्रिविक्रिमा नदी के समीप जो नारायण तीर्थ है तथा जिसके दर्शन मात्र से ही हरी नारायण की भक्ति बढ़ती है। ऐसे परम कल्याणकारी तीर्थ मे नारायण स्वयं विराजमान रहते हैं। ऐसे परम पुनीत स्थान के दर्शन मात्र से ही मनुष्य आवागमन के चक्र से मुक्त हो जाता है। महत्वफल को देने वाला ये ही वह स्थान है जिसके ऊपर रमणीक यज्ञ पर्वत है। यहाँ से ईशान दिशा मे चार मील की दूरी पर वासुकी सरोवर नामक स्थान है जहाँ पौराणिक वासुकी नाग का निवास भी था। इसी स्थान पर वासुकी नदी तथा दो अन्य गंग धाराएँ मिलकर सोन गंगा कहलाती हैं, जोकि नीचे सोनप्रयाग नामक स्थान पर केदारनाथ से आने वाली मंदाकिनी नदी मे समाहित हो जाती है। महादेव जी आगे कहते हैं कि हे पार्वती ! इस हरी पर्वत की स्थिति के कुछ चिन्ह मै तुम्हें बतलाता हूँ, जिसे जानने से मोक्ष पद की प्राप्ति होती है। धनंजय नामक अग्नि के नित्यप्रति वहाँ महाप्रज्ज्वलित होने तथा दर्शन करने से मनुष्य को मुक्ति प्राप्त होती है।

तीन युगों से  प्रज्ज्वलित शिव-पार्वती विवाह अग्नि 

इसी पवित्र अग्नि का ब्रह्मादि देवताओं ने पूजन किया था। जब से इस स्थान पर महादेव एंव माँ पार्वती का विवाह सम्पन्न हुआ है तभी से इस हवन वेदी मे अखण्ड धुनि जल रही है। जनमान्यता है कि यह अग्नि तीन युगों से निरन्तर प्रज्ज्वलित है। तीर्थयात्री इसी हवनकुंड की विभूति को अपने मस्तक पर लगाकर करुणासिंधु महादेव का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। विवाहित जोड़े बड़ी ही आस्था एंव श्रद्धा के साथ इस हवनकुंड की परिक्रमा करते हैं तथा चावल से भरी थाली चढ़ाकर अपने सुखी विवाहित जीवन की कामना करते हैं। मंदिर परिसर मे ही चार कुंड बने हुए हैं जहाँ तीर्थयात्रियों द्वारा रुद्रकुंड मे स्नान,विष्णुकुंड मे मर्जन,ब्रह्मकुंड मे आचमन तथा सरस्वतीकुंड मे तर्पण किया जाता है। ऐसे परम पवित्र तीर्थस्थल पर पहुँच कर तीर्थयात्री आत्मिक आनंद से भावविभोर होकर इस श्रेष्ठ तीर्थ को बारंबार प्रणाम करते हैं।            

सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें। 


Saturday, 18 February 2017

   जहाँ गिरे थे माँ सती के कान : भीमाकाली मंदिर 

भीमाकाली मंदिर (सरहन)

पर्वतराज हिमालय की पावन पवित्र वादियों मे बसा हिमाचल प्रदेश सम्पूर्ण विश्व मे देवभूमि के नाम से विख्यात है। देवी-देवताओं,ऋषि मुनियों,साधकों एंव चिंतकों की इस निवास भूमि मे शिव एंव शक्ति के अनेकों ऐसे तीर्थस्थल हैं जिनकी पूजा से मनुष्य को एक आध्यात्मिक एंव आत्मिक सुख की अनुभूति प्राप्त होती है। पारंपरिक तीर्थस्थलों से हटकर ऐसा ही एक दिव्य एंव आलौकिक स्थान है भीमा काली मंदिर। 51 शक्तिपीठों मे से एक इस पवित्र स्थान पर माँ सती के कान गिरे थे। प्रकृति के अद्भुत नज़ारो के बीच बसा भीमाकाली मंदिर तीर्थयात्रियों एंव सैलानियों दोनों के ही आकर्षण का केंद्र है।

देवभूमि हिमाचल प्रदेश 

प्रदेश की राजधानी शिमला से लगभग 180किमी. की दूरी पर स्थित है सरहन। प्राचीन मान्यता के अनुसार किन्नर कैलाश प्रदेश की राजधानी शौणितपुर थी।  जोकि वर्तमान मे सरहन के नाम से जानी जाती है। यहीं पर कैलाश निवासी महादेव शिव के परम भक्त बाणासुर का साम्राज्य था। दंत कथा के अनुसार बाणा सुर की पुत्री उषा एंव श्री कृष्ण के पौत्र अनिरुद्ध के विवाह प्रसंग को लेकर बाणासुर एंव श्री कृष्ण मे भयंकर युद्ध हुआ,जिसमे भगवान शिव ने अपने परम भक्त बाणासुर का साथ दिया,किन्तु युद्ध के अंत मे बाणा सुर की मृत्यु के उपरांत श्री कृष्ण के पुत्र एंव अनिरुद्ध के पिता प्रदुमन ने इस राज्य की बागडोर संभाली। तब से आज़ादी तक बुशयार राज्य की बागडोर प्रदुमन के वंशजों के हाथों मे रही। आरोहिक्रम से बने तीन प्रांगणों मे माँ श्री भीमाकाली का पौराणिक भव्य मंदिर प्रतिष्ठित है। मंदिर परिसर मे प्रवेश करते ही सर्वप्रथम कोट शैली मे बने पाँच मंज़िलों के दो सुंदर भवन स्थित हैं। सबसे ऊपर की मंज़िल मे पहुँच कर भक्त माँ आदिशक्ति भीमाकाली के दर्शन करते हैं। चित को आकर्षित करती माँ की सुंदर भव्य मूर्ति को नमन कर भक्त माँ भीमाकाली का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। 

कोट शैली मे निर्मित मंदिर की इमारत 

नीचे की मंज़िल मे राजा हिमाचल की पुत्री माँ पार्वती की सुंदर मूर्ति स्थापित है। मंदिर का शान्त एकांत वातावरण तीर्थयात्रियों के चित को एक अलौकिक आनंद से प्रफुल्लित कर देता है। निपुण कारीगरों द्वारा की गई सुंदर नक्काशी अद्भुत काष्टकला का नमूना पेश करती है। साफ मौसम मे मंदिर के सामने की ओर दृष्टि डालने पर परम पवित्र श्रीखंड कैलाश पर्वत के पुनीत दर्शन तीर्थयात्रियों को प्राप्त होते हैं। मंदिर परिसर मे ही अन्य तीन मंदिरों मे भगवान रघुनाथ,नरसिंह एंव पाताल भैरव की मूर्तियाँ प्रतिष्ठित है। प्राचीन ग्रन्थों मे भी भीमा काली मंदिर का उल्लेख पाये जाने के कारण मंदिर का महत्व और भी बढ़ जाता है। वर्तमान मे हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता मे मंदिरन्यास का गठन किया गया। न्यास द्वारा तीर्थयात्रियों की सुविधा हेतु मंदिर परिसर मे ही कुछ कमरों एंव एक कैंटीन की व्यवस्था की गयी है। हिमाचल की सुंदर वादियों  मे ऐसे दिव्य अलौकिक स्थान के दर्शनोपरांत तीर्थयात्री भावविभोर होकर माँ को बारंबार नमस्कार करते है।        

भीमाकाली मंदिर समूह 

सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें। 


Friday, 10 February 2017

           भारत की दुर्गम महायात्रा : आदि कैलाश 

आदि कैलाश की तलहटी पर लेखक अपने ग्रुप के साथ 

देवताओं की निवासभूमि हिमालय प्राचीन काल से ही अपनी विपुल नैसर्गिक सुंदरता के लिए विश्व प्रसिद्ध रही है। यहाँ के पग-पग मे फैले आलौकिक दृश्य न केवल तीर्थयात्रियों अपितु प्रकृति का रसपान करने वाले घुमक्कड़ों की भी आस्था का प्रेरणास्रोत रहे हैं। इसी हिमालय के उत्तरांचल राज्य के कुमाऊँ मण्डल मे ऐसी ही एक आस्था,रोमांच एंव दुर्गमता की प्रतीक रही है आदि कैलाश यात्रा। इस यात्रा के लिए तीर्थयात्रियों को दिल्ली से लगभग 780 किमी. बस द्वारा तथा लगभग 160 किमी. कठिन पैदल मार्ग का सफर तय करना पड़ता है। 

नेपाली धारचूला बाज़ार 

उत्तरांचल राज्य के धारचूला पहुँचने के लिए दो मार्ग उपलब्ध हैं। एक मार्ग काठगोदाम,अल्मोड़ा होते हुए धारचूला पहुँचता है तथा दूसरा टनकपुर,पिथोरागढ़ होते हुए। धारचूला एक सीमान्त कस्बा है। जहाँ स्थित एक पुल के दूसरी तरफ  नेपाल अंतर्गत क्षेत्र को नेपाली धारचूला कहा जाता है। अंतिम बाज़ार होने के कारण तीर्थयात्रियों एंव पर्यटको को यात्रा मार्ग मे काम आने वाली वस्तुएँ जैसे टॉर्च,लाठी, छाता, टॉफी-गोलियाँ, जरूरी दवाइयाँ इत्यादि यहीं से खरीद कर आगे बढ़ना चाहिए। आदि कैलाश यात्रा पार जाने वाले यात्रियो को डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट से अनुमति पत्र लेने आवश्यक होता है। मंगती तक तीर्थयात्रियों को मोटर मार्ग उपलब्ध है। यहाँ से आगे यात्रियो को सम्पूर्ण मार्ग पैदल ही तय करना पड़ता है। 

तवाघाट  

मंगती से गाला लगभग 5 किमी. की दूरी पर स्थित है। किन्तु अत्यधिक खड़ी चड़ाई तथा घने जंगलों से होकर गुजरने के कारण ये 5 किमी. का मार्ग 15 किमी. जैसा लगता है। यात्रियो के मुख से फूलती हुई साँस के साथ केवल ॐ नमः शिवाय का मंत्र ही निकल पाता है। गाला कैंप समुन्द्रतल से लगभग 2440 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। जहाँ से सामने की ओर देखने पर हरी-भरी आछन्दित घाटियाँ दिखाई पड़ती हैं जो तन एंव मन को काफी शीतलता प्रदान करती हैं। 

काली गंगा 

अगले दिन बूंदी जाने के लिए गाला कैंप से निकलते ही सबसे पहले पत्थरों को काटकर बनाई गई 4444 सीढ़ियाँ उतरनी पड़ती हैं। गाला से बूंदी की दूरी लगभग 18 किमी. है। तीर्थयात्री काली गंगा के साथ-साथ माल्पा होते हुए लखनपुर पार करते हैं। लखनपुर के बाद मार्ग काफी संकीर्ण होने के कारण कई जगह ऊपर से गिरते पानी के झरनों मे से होकर जाना पड़ता है। 

छाता फ़ॉल्स 



थका देने वाली इस यात्रा मे बूंदी कैंप आने पर यात्रियो को काफी सकून मिलता है। रात्री विश्राम के पश्चात तीर्थयात्री अगली सुबह गूंजी की ओर प्रस्थान करते हैं। बूंदी से गूंजी की दूरी लगभग 17 किमी. है। बूंदी कैंप से निकलते ही लगभग चार-साढे चार किमी. की खड़ी चड़ाई के साथ घने जंगलों के बीच से होते हुए यात्री सियालेक (छायालेक) घाटी मे प्रवेश करते हैं। यहाँ से सामने की ओर देखने पर नेपाल स्थित अन्नपूर्णा पर्वत के दर्शन होते हैं। यहाँ से थोड़ा आगे घास के मैदान को पारकर गर्ब्यांग नामक गाँव आता हैं। गर्ब्यांग गाँव धीरे-धीरे जमीन मे धंस रहा है,जिस कारण कुछ वर्षों पश्चात इसका अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। यहाँ से गूंजी तक की यात्रा आरामदायक है।

गूंजी कैंप 

गूंजी पड़ाव नदी के दूसरी तरफ लगभग एक-डेढ किमी. पहले दिखने लगता है, किन्तु लोहे का पुल काफी आगे होने की वजह से यात्रियो को घूम कर आना पड़ता है। इस पुल को पार करते ही  एक मार्ग बायीं ओर कुट्टी घाटी की तरफ जाता है,जहाँ से यात्री कुट्टी,जोलिंग काँग होते हुए आदि कैलाश पहुँचते है। दायी तरफ जाने वाला मार्ग गूंजी,काला पानी,नवीडांग,लिपुलेक पास होते हुए तिब्बित स्थित हिंदुओं के सर्वोच्च तीर्थ कैलाश मानसरोवर जाता है। पुल पार करने के उपरान्त जब तीर्थयात्री आदि कैलाश वाले मार्ग पर थोड़ा सा आगे बढ़ते हैं तो उन्हे पुनः कुट्टी गंगा पार करनी पड़ती है। 

कुट्टी गंगा पर बना अस्थाई बांस का पुल 

कुट्टी गंगा पार करने के लिए तीर्थयात्रियों को बाँस के बने पुल को पार करना होता है। इस बाँस के पुल पर चलते समय दोनों ओर कोई सहारा न होने के कारण कुट्टी गंगा की भयंकर गर्जना तीर्थयात्रियों को भय तथा उत्साह का एक साथ एहसास कराती है। गूंजी से लगभग 11किमी. दूर नामफा गाँव आता है। यहाँ रुककर यात्री हल्का विश्राम एंव कुछ जलपान कर सकते है। यहाँ से लगभग 6-7 किमी. की दूरी पर कुट्टी गाँव है। समुद्रतल से लगभग 3600 मीटर की ऊँचाई पर स्थित यह छोटा सा गाँव भोटिया लोगों का निवास स्थान है। यात्रियो के रात्री विश्राम के लिए यहाँ कुमाऊ मण्डल विकास निगम ने फाइबर ग्लास हट्स की व्यवस्था की हुई है। 

फाइबर ग्लास हट्स 

कुट्टी से जोलिंगकाँग लगभग 14 किमी. है। अब यहाँ धीरे-धीरे ऊँचाई बढ़ने के कारण साँस फूलने के साथ सिर चकराने लगता है। किन्तु मार्ग की कठिनाइयों के बावजूद तीर्थयात्री निरन्तर अपनी मंज़िल की ओर बढ़ते रहते है। जोलिंगकाँग कैंप से कुछ पहले बड़े-बड़े पत्थरों को पार करना पड़ता है।

                           

बड़े-बड़े पत्थरों को पार करते यात्री 

जोलिंगकाँग मे इंडो-तिब्बित-बार्डर पुलिस की चेक पोस्ट है जहाँ यात्रियो के सारे डॉक्युमेंट्स देखने के बाद ही आगे जाने दिया जाता है। यहाँ कु.म.वि.नि. द्वारा स्नो हट्स बनाई गई हैं जहाँ यात्रियो के रात्रि विश्राम की व्यवस्था है। अत्याधिक ठंड के कारण शाम होते ही यहाँ पारा माइनस मे चला जाता है जिस कारण यात्री भोजन करते ही अपने स्लीपिंग बैग मे घुस जाते हैं।    

स्लीपिंग बैग मे विश्राम करते यात्री 

यहाँ से आदि कैलाश पर्वत की दूरी केवल 4 किमी. रह जाती है। तीर्थयात्री फूलती हुई साँस के साथ-साथ बर्फ के ऊपर चलते हुए पार्वती सरोवर पहुँचते हैं। आदि कैलाश पर्वत की तलहटी पर बना यह सरोवर अत्यन्त मनोरम है। मौसम साफ होने पर इस पार्वती सरोवर मे आदि कैलाश पर्वत का प्रतिबिम्ब देखने योग्य होता है। ये आस्था का ही प्रतीक है कि बर्फ समान शीतल जल मे तीर्थयात्री शिव नाम की डुबकी लगाते है।

पवित्र पार्वती सरोवर 

स्नान के उपरान्त यहीं पास ही स्थित छोटे से गौरी-शंकर मंदिर मे पूजार्चना करने से मार्ग की सारी थकान दूर हो जाती है। इस मंदिर का निर्माण कुट्टी गाँव के निवासियों ने करवाया था। यह स्थान समुन्द्र तल से लगभग 4660 मीटर की ऊँचाई  पर स्थित है। 

गौरी शंकर मंदिर 

कैलाश मानसरोवर जाने मे असमर्थ यात्री पार्वती सरोवर मे स्नान तथा आदि कैलाश के दर्शन पाकर स्वयं को धन्य बनाते हैं। आदि कैलाश को छोटा कैलाश अथवा बाबा कैलाश के नाम से भी पुकारा जाता है। पृथ्वी के स्वर्ग कहे जाने वाले इस पावन स्थान पर आकर निसंदेह नास्तिक व्यक्ति भी खुद को धन्य समझते हैं। पंच कैलाशों मे एक इस परम पावन आदि कैलाश को हमारा बारंबार प्रणाम है।  

महादेव निवास आदि कैलाश पर्वत 


सम्पूर्ण भारत के रहस्यमयी, रोमांचमयी, पर्यटन एंव धार्मिक तीर्थस्थलों के विषय मे पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग पोस्ट annupuneetmahajan.blogspot.com पर follow करें।